Read गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta by Dharamvir Bharati (धर्मवीर भारती) Free Online


Ebook गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta by Dharamvir Bharati (धर्मवीर भारती) read! Book Title: गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta
The author of the book: Dharamvir Bharati (धर्मवीर भारती)
Edition: Bhartiya Jnanpith
Date of issue: 2009
ISBN: 8126317779
ISBN 13: 9788126317783
Language: English
Format files: PDF
The size of the: 642 KB
City - Country: No data
Loaded: 1353 times
Reader ratings: 6.1

Read full description of the books:



धर्मवीर भारती के इस उपन्यास का प्रकाशन और इसके प्रति पाठकों का अटूट सम्मोहन हिन्दी साहित्य-जगत् की एक बड़ी उपलब्धि बन गये हैं। दरअसल, यह उपन्यास हमारे समय में भारतीय भाषाओं की सबसे अधिक बिकने वाली लोकप्रिय साहित्यिक पुस्तकों में पहली पंक्ति में है। लाखों-लाख पाठकों के लिए प्रिय इस अनूठे उपन्यास की माँग आज भी वैसी ही बनी हुई है जैसी कि उसके प्रकाशन के प्रारम्भिक वर्षों में थी।–और इस सबका बड़ा कारण शायद एक समर्थ रचनाकार की कोई अव्यक्त पीड़ा और एकान्त आस्था है, जिसने इस उपन्यास को एक अद्वितीय कृति बना दिया है।


Download गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF
Download गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta ERUB गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF
Download गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta DOC गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF
Download गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta TXT गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF



Read information about the author

Ebook गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta read Online! धर्मवीर भारती (२५ दिसंबर, १९२६- ४ सितंबर, १९९७) आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रमुख लेखक, कवि, नाटककार और सामाजिक विचारक थे। वे एक समय की प्रख्यात साप्ताहिक पत्रिका धर्मयुग के प्रधान संपादक भी थे।

डॉ धर्मवीर भारती को १९७२ में पद्मश्री से सम्मानित किया गया। उनका उपन्यास गुनाहों का देवता सदाबहार रचना मानी जाती है। सूरज का सातवां घोड़ा को कहानी कहने का अनुपम प्रयोग माना जाता है, जिस श्याम बेनेगल ने इसी नाम की फिल्म बनायी, अंधा युग उनका प्रसिद्ध नाटक है।। इब्राहीम अलकाजी, राम गोपाल बजाज, अरविन्द गौड़, रतन थियम, एम के रैना, मोहन महर्षि और कई अन्य भारतीय रंगमंच निर्देशकों ने इसका मंचन किया है।

उन्हें आर्यसमाज की चिंतन और तर्कशैली भी प्रभावित करती है और रामायण, महाभारत और श्रीमदभागवत। प्रसाद और शरत्चन्द्र का साहित्य उन्हें विशेष प्रिय था। आर्थिक विकास के लिए मार्क्स के सिद्धांत उनके आदर्श थे परंतु मार्क्सवादियों की अधीरता और मताग्रहता उन्हें अप्रिय थे। ‘सिद्ध साहित्य’ उनके शोध’ का विषय था, उनके सटजिया सिद्धांत से वे विशेष रूप से प्रभावित थे। पश्चिमी साहित्यकारों में शीले और आस्करवाइल्ड उन्हें विशेष प्रिय थे। भारती को फूलों का बेहद शौक था। उनके साहित्य में भी फूलों से संबंधित बिंब प्रचुरमात्रा में मिलते हैं।

आलोचकों में भारती जी को प्रेम और रोमांस का रचनाकार माना है। उनकी कविताओं, कहानियों और उपन्यासों में प्रेम और रोमांस का यह तत्व स्पष्ट रूप से मौजूद है। परंतु उसके साथ-साथ इतिहास और समकालीन स्थितियों पर भी उनकी पैनी दृष्टि रही है जिसके संकेत उनकी कविताओंं, कहानियों, उपन्यासों, नाटकों, आलोचना तथा संपादकीयों में स्पष्ट देखे जा सकते हैं। उनकी कहानियों-उपन्यासों में मध्यवर्गीय जीवन के यथार्थ के चित्रा हैं ‘अंधा युग’ में स्वातंत्रयोत्तर भारत में आई मूल्यहीनता के प्रति चिंता है। उनका बल पूर्व और पश्चिम के मूल्यों, जीवन-शैली और मानसिकता के संतुलन पर है, वे न तो किसी एक का अंधा विरोध करते हैं न अंधा समर्थन, परंतु क्या स्वीकार करना और क्या त्यागना है इसके लिए व्यक्ति और समाज की प्रगति को ही आधार बनाना होगा- पश्चिम का अंधानुकरण करने की कोई जरूरत नहीं है, पर पश्चिम के विरोध के नाम पर मध्यकाल में तिरस्कृत मूल्यों को भी अपनाने की जरूरत नहीं है।

उनकी दृष्टि में वर्तमान को सुधारने और भविष्य को सुखमय बनाने के लिए आम जनता के दुःख दर्द को समझने और उसे दूर करने की आवश्यकता है। दुःख तो उन्हें इस बात का है कि आज ‘जनतंत्र‘ में ‘तंत्र‘ शक्तिशाली लोगों के हाथों में चला गया है और ‘जन’ की ओर किसी का ध्यान ही नहीं है। अपनी रचनाओं के माध्यम से इसी ‘जन’ की आशाओं, आकांक्षाओं, विवशताओं, कष्टों को अभिव्यक्ति देने का प्रयास उन्होंने किया है।


Reviews of the गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta


FREDDIE

Put it on the toilet paper! or the fireplace!

JOSEPH

The idea is great, but sometimes the text suffers

FLORENCE

Why do you need to specify a phone?

JAYDEN

Why do you need to drive a phone?

FAITH

Why do I need to specify a phone number?




Add a comment




Download EBOOK गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta by Dharamvir Bharati (धर्मवीर भारती) Online free

PDF: -gunahon-ka-devta.pdf गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta PDF
ERUB: -gunahon-ka-devta.epub गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta ERUB
DOC: -gunahon-ka-devta.doc गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta DOC
TXT: -gunahon-ka-devta.txt गुनाहों का देवता / Gunahon Ka Devta TXT